Nishpaksh Samachar
ताज़ा खबर
अन्यग्रामीण भारतघटनाक्रमताज़ा खबरनारद की नज़रप्रादेशिकराजधानीराजनीति

नारद की नजर:- दमोह उपचुनाव में होगा त्रिभुजी मुकाबला

nishpaksh samachar

लोधी व ब्राह्मण के साथ भाजपा के वोट में सेंध लगाने की तैयारी

दमोह:- दमोह उपचुनाव का नगाड़ा बज चुका है। योद्धा भी मैदान में उतरने के लिए सज रहे हैं। सेना भी तैयार हो रही है, लेकिन दमोह का उपचुनाव इस बार त्रिभुजी मुकाबला की दिशा में बढ़ता दिखाई दे रहा है। दमोह जिले में दलित वोट बैंक के बाद सबसे बड़े वोट बैंक लोधी व ब्राह्मण हैं। जो अभी भाजपा के माने जा रहे हैं, लेकिन इनमें सेंध लगाने की तैयारी शुरू हो गई है।

यह भी पढ़ें :- रूठे नही माने तो होगा त्रिकोणीय मुकाबला… ,स्थानीय मुद्दे और प्रत्याशी के चेहरे भी डालेंगे असर.!

अब योद्धाओं के नाम भी सामने आने लगे हैं भाजपा से राहुल सिंह लोधी हैं तो कांग्रेस से अजय टंडन के नाम की मुहर लगाई जाना मानी जा रही है। वहीं भाशचेपा ने महिला उम्मीदवार उमा सिंह लोधी को उम्मीदवार बनाया है जो 38 हजार लोधी वोट बैंक में सेंध लगाने की भूमिका निभाएंगी। वहीं ब्राह्मण वोट बैंक व हिंदुवादी कट्टर भाजपा के वोट बैंक में सेंध लगाने के लिए शिवसेना से राज पाठक मैदान में उतर रहे हैं।

यह भी पढ़ें :- चुनाव से गायब होते स्थानीय मुद्दे 

नारद की नजर में यह तो शुरुआती शतरंज की विसात बिछती हुई सामने दिख रही है। असली चाल तो तब सामने आएगी जब दमोह की भाजपा के राजा माने जाने वाले मलैया स्वयं मैदान में उतरेंगे या अपने वजीर सिद्धार्थ को निर्दलीय मैदान में उतारेंगे। तब यह लड़ाई त्रिभुजी मुकाबला बन जाएगा।

यह भी पढ़ें :- मै जातिगत राजनीति का पक्षधर नहीं – भार्गव

नारद अपनी दिव्य दृष्टि से देख रहे हैं कि 2021 का चुनाव दमोह के इतिहास में लिखा जाएगा। क्योंकि इस चुनाव में भाजपा के प्रत्याशी भले ही राहुल सिंह के रूप में मतदाताओं को नजर आएंगे लेकिन पर्दे के पीछे से चुनाव मुकाबले में मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान मैदान में राजा के रूप में स्वयं चालें चलेंगे।

यह भी पढ़ें :- बस स्टेण्ड साइड से जिला अस्पताल का गेट बनवाने के केन्द्रीय राज्यमंत्री ने दिये निर्देश

नारद को अपने दिव्य ज्ञान से यह भी पता चल रहा है कि यह लड़ाई भविष्य, भूत और वर्तमान की लड़ाई है। जिसमें जनता जनार्दन को कई से अपना हिसाब बराबर करना है। जिसका पूरा मौका जनता को मिलने वाला है क्योंकि चुनावी समीकरण इस तरह के बन रहे हैं कि सब्र किसी को नहीं है सबको लग रहा है कि मत चूको चौहान की तर्ज पर मैदान पर उतरना चाहिए नहीं तो यह वक्त चला जाएगा। बस यही सब्र का बांध इस चुनाव में दमोह की जनता टूटता हुई अपनी आंखों से देखने वाली है जो दमोह के लोगों के लिए नैन सुख की तरह सुहानी लगने वाली है।

इंतजार करें फिर मिलेंगे.. नारायण, नारायण, नारायण

Related posts

बिजली कटौती की समस्या के समाधान के लिए युवाओं ने घंटाघर पर धरना दिया

Nishpaksh

मास्क लगाने को लेकर प्रशासन से उलझे राष्ट्रीय संत आत्मानंद सरस्वती, कहा मेरे चालान का पैसा मुख्यमंत्री भरें

Nishpaksh

पुलिस विभाग ने नागरिकों से ऑनलाइन ठगी से सतर्क रहने की अपील

Nishpaksh

Leave a Comment