Nishpaksh Samachar
ताज़ा खबर
अन्यग्रामीण भारतप्रादेशिकराजधानीराजनीति

दमोह के बरी, पापड़, बिजोरे की गुड़ मेले में रही धूम, दमोह में कलेक्टर ने मेलो के आयोजनों पर लगाया प्रतिबंध

nishpaksh samachar

आज से तीन दिवसीय गुड़ मेला प्रारंभ, पहले दिन उमड़ा जनसैलाब

भोपाल/दमोह  – इस वर्ष दमोह जिले में संक्रांति पर्व पर आयोजित होने वाले मेले नहीं होंगे। कोरोना के बढ़ते संक्रमण के दृष्टिगत सरकार की गाइडलाइंस के चलते यह आदेश जारी कर दिए गए हैं। दमोह कलेक्टर तरूण राठी ने संबंधित सभी विभागों को आदेशित किया कि मेलो के आयोजन पर पूरी तरह प्रतिबंधित हैं। कलेक्टर राठी ने जानकारी देते हुए बताया यह प्रतिबंध केवल कोविड-19 महामारी को देखते हुए लिया गया है। उन्होंने अनुविभागीय अधिकारी राजस्व (एसडीएम) पथरिया, हटा, तेंदूखेड़ा और दमोह से कहा हैं कि निर्देशों का पालन सुनिश्चित करायें।

वहीं देश और दुनिया मे मशहूर करेली गुड़ और गाडरवारा की तुअर दाल ने भोपाल के गुड़ मेले में धूम मचा दी है। शुक्रवार को एक जिला एक उत्पाद की अवधारणा को लेकर भोपाल में गुड़ मेला प्रारम्भ हुआ।

गुड़ मेला 2021 का शुभारंभ जीएस कौशल सेवानिवृत्त संचालक कृषि द्वारा किया गया। मेले का शुभारंभ कार्यक्रम में डॉक्टर ए के तिवारी निदेशक दलहन विकास निदेशालय भोपाल, के एस टेकाम अपर संचालक कृषि, बीएल बिलैया संयुक्त संचालक कृषि भोपाल, जीतेंद्र सिंह संयुक्त संचालक कृषि होशंगाबाद, एस के सोनानिया उप संचालक कृषि भोपाल एवं अवनीश चतुर्वेदी उपसंचालक संचालनालय भोपाल,  एवं लगभग 450 किसान एवं लगभग 1000 से अधिक भोपालवासी नागरिक उपस्थित रहे।

श्री कौशल द्वारा गुड़ एवं दाल उत्पादक किसानों को जैविक खेती के लिए प्रोत्साहित किया।  राजेश त्रिपाठी उप संचालक कृषि नरसिंहपुर द्वारा करेली का गुड़ एवं गाडरवारा की तुअर दाल तथा जितेंद्र सिंह संयुक्त संचालक कृषि होशंगाबाद द्वारा नरसिंहपुर के जैविक उत्पादों के बारे में बताया वहीं आभार प्रदर्शन बीएल बिलैया संयुक्त संचालक कृषि द्वारा किया गया।

नरसिंहपुर जिले से 40 कृषकों द्वारा 20 स्टाल गुड़ और तुअर दाल के लगाए जिसमें कई प्रकार के गुड़ काली मिर्च, इलायची, अदरक, आंवला आदि के लगाए गए।  रीवा से लकड़ी के खिलौने छतरपुर से मिट्टी के बर्तन अलीराजपुर एवं उज्जैन से बाग प्रिंट कपड़े, देवास से लेटर आइटम, सागर से कपड़े, धार से बाग लेडीज कपड़े,  टीकमगढ़ से चादर, गुना से ब्लॉक प्रिंट कपड़े, रायसेन से आयुर्वेदिक चूर्ण, भेल पुरी,सेव पुरी, अशोकनगर से चंदेरी साड़ी, दमोह से बरी, पापड़, बिजोरे, बालाघाट से चने, चावल, गुड़, सत्तू आदि सामग्री उपलब्ध रही। मेले का खुलने का समय प्रातः 11:00 से रात्रि 9:00 तक रहेगा।

 

#damoh #papad #mela

Related posts

Hanuman Janmotsav 2021: कल है चैत्र पूर्णिमा और हनुमान जयंती, जानें पूजा का शुभ मुहूर्त और विधि

Nishpaksh

पर्यटन एवं वन विभाग के आपसी समन्वय से राहतगढ़ वाटरफॉल में किये जाएँगे विकास कार्य -प्रमुख सचिव शुक्ला

Nishpaksh

दुर्लभ पक्षियों का घर बना नौरादेही अभयारण्य

Nishpaksh

Leave a Comment