Nishpaksh Samachar
ताज़ा खबर
अन्यक्राइमताज़ा खबरनारद की नज़रव्यवसायस्थानीय मुद्दा

अतिक्रमण कर बनाया चर्चित मिशन अस्पताल की भूमि खाली करने नोटिस जारी

दमोह: शहर के राय चौराहे के पास करीब ढाई एकड़ अतिक्रमण की भूमि में बने एक निजी अस्पताल सरकारी भूमि खाली करने के लिए अस्पताल और आधार शिला संस्थान के मुख्य अजयलाल को न्यायालय नजूल तहसीलदार की ओर से अतिक्रमण हटाने नोटिस जारी किया गया है। 

कितनी जमीन पर है अतिक्रमण:– खबर है कि लगभग 3.83 एकड़ में फैली चर्चित मिशन अस्पताल का मात्र 1.30 एकड़ भूमि की लीज स्वीकृत है बाकि 2.35 एकड़ भूमि पर अतिक्रमण किए जाने की जानकारी प्राप्त हुई है। जबकि 0.17 जमीन नगर सौंदर्यीकरण कर सड़क निर्माण के लिए दी गई थी।

कौन है यह अजय लाल:– बताया जा रहा है कि यह मिशन अस्पताल स्टांप चोरी के मामले चर्चित लाल बंधुओ में से एक का है जिन पर EOW (आर्थिक अपराध अन्वेषण ब्यूरो) ने मामला दर्ज किया है और जांच की जा रही है, उक्त मामले आरोपी अजयलाल और राजकमल लाल इन दिनों जमानत पर है। 

जिला मजिस्ट्रेट के समक्ष उचित दस्तावेज नही देने पर हुई थी लीज रद्द:– दरअसल नजूल सीट नं. 42–49 प्लाट नं. 86 में स्थित 3.82 एकड़ जमीन में से 86/2 का रकवा 1.30 एकड़ जमीन की लीज डिसाईपल्स ऑफ क्राइस्ट चर्च दमोह के नाम स्वीकृत है और 86/1 जिसका रकवा 2.35 एकड़ है उसकी लीज तत्कालीन जिला मजिस्ट्रेट आरए खंडेलवाल ने उचित दस्तावेज प्रस्तुत नही कर पाने के कारण शासकीय भूमि दर्ज करने के आदेश दिए थे। 

लीज की शर्तो का उलंघन करने पर जिला मजिस्ट्रेट ने दिया था आदेश:– जिला मजिस्ट्रेट ने आदेश में कहा था उन्होंने अपने आदेश में कहा था कि प्लाट नं.86 में से 2-35 एकड़ के प्रबंधन में असमर्थता व्यक्त करने, सी.एन.आई. द्वारा लीज शर्तों का उलंघन कर सेन्ट्रल इंडिया क्रिश्चियन मिशन के पक्ष में अवैधानिक रूप से भूमि विक्रय करने एवं आई.सी.सी.डी.सी. तथा सी.एन.आई. द्वारा भूमि के प्रबंधन में असमर्थता व्यक्त करने एवं सेन्ट्रल इंडिया क्रिश्चियन मिशन द्वारा अपना दावा वापिस ले लेने के उपरांत इस भूमि को नजूल अभिलेख में वापिस शासकीय भूमि दर्ज किया जाना उचित है।

नजूल तहसीलदार की ओर से नोटिस हुआ जारी:– उक्त भूमि पर अभी अतिक्रमण कर अस्पताल और अन्य निर्माण होने की जानकारी के चलते नजूल तहसीलदार की ओर से पत्र जारी किया गया है। जिसमे अस्पताल प्रबंधक की ओर से जवाब देने 7 नवंबर बुलाया है।

जवाब देने से बचते नजर आए जिम्मेदार:– इस मामले को लेकर जब हमने संस्था का पक्ष जानने की कोशिश की तो वहां के जिम्मेदार भी जवाब देने से बचते नजर आए। तो वहीं उक्त मामले में तहसीलदार विकास अग्रवाल का कहना है कि उच्च अधिकारियों के निर्देश पर नोटिस जारी किया गया है और कार्रवाई की जा रही है।

Related posts

केंद्रीय जलशक्ति राज्यमंत्री के संसदीय क्षेत्र में दूषित पानी पीने से दो लोगों की मौत, मंत्री पंचायत चुनाव में व्यस्त

Nishpaksh

निरीक्षण का उद्देश्य कमियां निकालना नहीं है बल्कि प्रबंधन करना है- मुकेश शुक्ला

Nishpaksh

कैबिनेट मंत्री दर्जा प्राप्त राहुल सिंह के पीए पर गुंडागर्दी का आरोप: सोशल मीडिया के माध्यम से लोग लगा रहे आरोप

Nishpaksh

Leave a Comment