Nishpaksh Samachar
ताज़ा खबर
अन्यग्रामीण भारतताज़ा खबरप्रादेशिकराजधानीराष्ट्रीय एवं अंतरराष्ट्रीय समाचार

दमोह: जिले के 2653 कोरोना संक्रमितों की संख्या भोपाल में घटकर 1427 हुई, 1226 मरीजों का डाटा गायब !

दमोह जिले में कोरोना से संक्रमित मरीजों की संख्या लगातार बढ़ रही है. जिले के ग्रामीण अंचलों तक कोरोना के मामले देखेने को मिल रहे हैं. वहीं कोरोना की बढ़ती इस रफ्तार के बीच स्वास्थ्य विभाग के आंकड़े हैरान करने वाले हैं. 9 मई 2021 के स्वास्थ्य संचालनालय भोपाल से जारी मेडिकल बुलेटिन के अनुसार दमोह जिले में एक्टिव केस की संख्या 1427 है, जबकि दमोह जिला जनसंपर्क विभाग के मेडिकल बुलेटिन में 2653 एक्टिव केस बताए जा रहे हैं। यानी सीधे 1226 एक्टिव केस की जानकारी भोपाल नहीं भेजी गई

दमोह- दमोह जिला अस्पताल की स्वास्थ्य व्यवस्थाएं किसी से छिपी नहीं हैं आए दिन यहां पर कोविड वार्ड में मरीजों और उनके परिजनों से बदतमीजी और गाली गलौच करने के मामले भी सामने आते रहते हैं. कोरोना काल में दमोह जिला अस्पताल के अधिकारियों का हैरान करने वाला रवैया देखने को मिल रहा है. दमोह जिला अस्पताल में अधिकारी कोरोना संक्रमित मरीजों के आंकड़ों में भारी गड़बड़ी कर रहे हैं. इस बात का पता तब चला जब हमने स्वास्थ्य विभाग के भोपाल मुख्यालय से जारी होने वाले हैल्थ बुलेटिन के डाटा, दमोह जिला मुख्यालय से जारी हैल्थ बुलेटन के डाटा की तुलना की. तुलना करने पर पता चला कि दमोह जिले में रोजाना पॉजिटिव आने वाले मरीजों की संख्या में एक दो नहीं बल्कि हजारों का अंतर देखने को मिला है.

इसे ऐसे समझें.

9 मई 2021 को स्वास्थ्य संचालनालय भोपाल से जारी कोरोना बुलेटिन में दमोह जिले में एक्टिव केस की संख्या 1427 बताई गई, जबकि मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी डॉ संगीता त्रिवेदी के हवाले से जिला जनसंपर्क विभाग की जारी मेडिकल बुलेटिन में करीब 2653 एक्टिव केस बताए जा रहे हैं। यानी सीधे 1226 एक्टिव केस की जानकारी भोपाल नहीं भेजी गई. यही नहीं प्रतिदिन पॉजिटिव केस की संख्या में भी काफी अंतर है. स्वास्थ्य संचालनालय भोपाल से जारी बुलेटिन में 9 मई 2021 तक कोरोना के कुल संक्रमितों की संख्या 6377 है जबकि सीएमएचओ डॉ संगीता त्रिवेदी के हवाले से जारी मीडिया बुलेटिन देखें तो अभी तक जिले में कुल 7488 कोरोना संक्रमित मरीज मिले है. दोनों बुलेटिन में 1111 का अंतर है जो कि दमोह जैसे छोटे जिले के हिसाब से बहुत है.

दमोह जिले से जारी हैल्थ बुलेटिन के आधार पर कोरोना सक्रमितों की संख्या

इस मामले में जब दमोह जिला की मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी डॉ संगीता त्रिवेदी से जानकारी ली गई तो उन्होंने अजीब सी दलील देते हुए कहा कि “पुणे में स्थित कृष्णा डायग्नोस्टिक प्राइवेट लिमिटेड लैब में जारी पॉजिटिव संख्या उनके द्वारा पोर्टल पर दर्ज नहीं कराई जा रही इसलिए इतना अंतर देखने मिल रहा है।”

भोपाल से जारी हैल्थ बुलेटिन के आधार पर कोरोना सक्रमितों की संख्या
दमोह जिले के सैंपल जांच के लिए भेजे जा रहे पुणे

संभाग में दमोह जिला ही एक मात्र ऐसा जिला है जहां के कोरोना सैंपल जांच के लिए पुणे की एक निजी लैब भेजे जा रहे हैं, जबकि टीकमगढ़, छतरपुर, पन्ना, सागर जिले के सैंपल मेडिकल कॉलेज सागर और निवाड़ी जिले के सैंपल मेडिकल कॉलेज दतिया भेजे जा रहे हैं. कोरोना सैंपल इतनी दूर भेजने के कारण रिपोर्ट आने में भी काफी समय लग जाता है. कहीं कहीं तो जब तक मरीज की रिपोर्ट आती है तब तक मरीज ठीक होकर चला जाता है या फिर उसकी मौत हो जाती हैं.

Related posts

 हनुवंतिया में पैराग्लाइडिंग के दौरान हादसा,दो की मौत

Nishpaksh

जिला अस्पताल में प्रोफेशनल मैनेजमेंट नहीं दिखाई दिया– हेल्थ कमिश्नर

Nishpaksh

महाविद्यालयों में हो रहे वेबिनार की धरातलीय वास्तविकता

Nishpaksh

Leave a Comment