Nishpaksh Samachar
ताज़ा खबर
अन्यग्रामीण भारतघटनाक्रमताज़ा खबरप्रादेशिकराजधानी

कटनी बायपास में बड़ा हादसा, 4 लोगों की मौत

दुर्घटनाओं में किसी का भाई, किसी का पति तो किसी का परिवार ही उजड़ रहा हैं। सर्दियां शुरू होते ही अचानक सड़क दुघर्टनाओं की संख्या बढ़ गई हैं। सड़कों पर कुछ ऐसी जगह है जहां शासन-प्रशासन की अनदेखी की वजह से साल के अंतिम माह में कई लोगों की जान जा चुकी हैं। वहीं बड़ी संख्या में लोग घायल हुए हैं।

 

कटनी – वर्ष 2020 के अंतिम दिन लोग नए साल के आगमन के जश्न की तैयारी में लगे हुए थे लेकिन शहर के लिए अंतिम दिन भारी रहा। कुठला थाना क्षेत्र के इंदिरा नगर बाईपास में कार और ट्रक की सीधी भिड़ंत हो गई, जिसमें कार में सवार नगर प्रतिष्ठित गुप्ता परिवार के दो युवकों सहित दो अन्य युवकों की मौत हो गई। राष्ट्रीय राजमार्ग-30 कटनी बायपास पर गुरुवार दोपहर ढाई बजे सड़क हादसे में चार लोगों की मौत हो गई। तेज रफ्तार ट्रक (टीएन 34 एए 9949) ने सामने से आ रही कार (एमपी 21 सीए 9820) को सीधी टक्कर मार दी। टक्कर के बाद कार अनियंत्रित होकर पलट गई, जिससे कार के परखच्चे उड़ गए।

घटना की जानकारी लगते ही पुलिस और परिजन मौके पर पहुंचे और कार में बुरी तरह से फंसे शवों को कार के पुर्जे काट काटकर बाहर निकाला गया।

जानकारी के अनुसार नगर के प्रतिष्ठित व्यापारी सुरेश गुप्ता के बेटे दीपक गुप्ता का 24 वर्षीय पुत्र ऋषभ गुप्ता, बेटी आरती गुप्ता का पुत्र कुश गुप्ता,अपने दोस्त प्रियंक सुहाने निवासी मसुरहा वार्ड और ड्राइवर दशरथ यादव निवासी विजयराघवगढ़ के साथ जबलपुर बाईपास कार से गए थे। जैसे ही उनकी कार इंदिरा नगर बाइपास के समीप पहुंची सामने से आ रहे ट्रक से उनकी जोरदार भिड़ंत हो गई। दुर्घटना में कार बाईपास से नीचे जा गिरी और मौके पर ही चारों युवकों की मौत हो गई।

आसपास के रहवासियों और राहगीरों की सूचना पर मौके पर सीएसपी शशिकांत शुक्ला, कुठला थाना प्रभारी विपिन सिंह बल के साथ पहुंचे। कार के नंबर के आधार पर युवकों की पहचान हुई और परिजनों को सूचना दी गई। कार का अगला हिस्सा बुरी तरह से क्षतिग्रस्त हो गया था और उसमें चारों लोगों के तो फस गए थे। मौके पर पहुंची पुलिस और लोगों ने कार के हिस्सों को काटकर चारों शवों को बाहर निकाला और पोस्टमार्टम के लिए जिला अस्पताल भेजा। साथ ही मामले में पुलिस ने मर्ग कायम किया है और मामले की जांच कर रही है।

Related posts

पिता के पास अपनी बेटी की शादी के लिए पैसे नहीं थे, भगवान से प्रार्थना की, इसके बाद उन्हें क्या मिला

Admin

गोबर के दीयों से जिंदगी में हुआ उजाला: महिलाए बनी आत्मनिर्भर, अब एक दिन में बना लेती हैं ढाई हजार दीए

Nishpaksh

एम एच संस्था ने एक हजार पौधों का किया रोपण

Nishpaksh

Leave a Comment