Nishpaksh Samachar
ताज़ा खबर
अन्यक्राइमग्रामीण भारतघटनाक्रमताज़ा खबर

दमोह: कोरोना काल में मरीज के परिजनों से मनमाने दाम वसूलने वाले एंबुलेंस चालकों पर हो सकती है कार्रवाई

मरीज के परिजन से एंबुलेंस चालक वसूल द्वारा वसूले जा रहे मनमाने दाम को लेकर लघु व्यापारी संघ ने कलेक्टर और एसपी को दिया ज्ञापन

कोरोना काल में कोरोना संक्रमित मरीज के परिजन से मनमाने रुपए वसूलने वाले एंबुलेंस चालकों पर जिला प्रशासन कार्रवाई कर सकता है. कोरोना काल में एंबुलेंस चालक द्वारा मरीजों से मनमाने दाम वसूलने के विरोध में सोमवार को मध्य प्रदेश लघु व्यापारी संघ ने कलेक्टर और एसपी को ज्ञापन दिया. दमोह जिले में कोरोना संक्रमण दिनों दिन बड़ता जै रहा है रोजोना 100 से ज्यादा मरीज पॉजिटिव आ रहे हैं. 

दमोह – कोरोना काल में एंबुलेंस चालक द्वारा मरीजों से मनमाने दाम वसूलने के विरोध में सोमवार को मध्य प्रदेश लघु व्यापारी संघ ने कलेक्टर और एसपी को ज्ञापन दिया। जिला अध्यक्ष तनुज पाराशर ने बताया कि सोमवार को दमोह में कोरोना महामारी में आपदा के समय कुछ लोग अवसर तलाश रहे हैं। सरकार ने मुनाफाखोरी और कालाबाजारी रोकने के लिए आदेश जारी किया है, जिसका कोई खास असर दमोह जिले में देखने को नहीं मिला है. यहां एंबुलेंस चालक मरीज के परिजनों से मनमाने पैसे ले रहे हैं जिसकी कीमत हजारों में है.

कलेक्टर और एसपी को दिए ज्ञापन में बिट्टू दुबे नाम के एंबुलेंस चालक पर मरीजे के परिजनों से 19 हजार रुपए लेने की बात रही गई है. जिसके कुछ विडियो भी सेशल मीडिया पर वायरल हो रहे हैं. विडियो में ग्राहक और चालक की मोबाइल की बातचीत से 19 हजार रुपए किराया लेने की बात हो रही है। मामले से संबंधित अगले विडियो में बिट्टू दुबे कह रहा है कि अब वह 20 हजार रुपए से कम में एंबुलेंस नहीं ले जाएगा। उसका कहना है कि उसे ऑक्सीजन सिलेंडर 7 हजार रुपए में उपलब्ध हो रहा है। सैनेटाइजर ड्राइवर खर्च और उसका बीमा न होने के कारण वह 20 हजार रुपए किराया ही लेगा।

मरीज के परिजन से एंबुलेंस चालक वसूल द्वारा वसूले जा रहे मनमाने दाम को लेकर लघु व्यापारी संघ ने कलेक्टर और एसपी को दिया ज्ञापन
मरीज के परिजन से एंबुलेंस चालक वसूल द्वारा वसूले जा रहे मनमाने दाम को लेकर लघु व्यापारी संघ ने कलेक्टर और एसपी को दिया ज्ञापन

ज्ञापन देने वाले तनुज पाराशर का कहना है कि जिस तरह चुनावों में वाहनों का अधिग्रहण किया जाता है उसी तरह प्रशासन कोरोना महामारी के दौरान निजी एंबुलेंस का अधिग्रहण करे और परिवहन विभाग द्वारा इन वाहनों का किराया तय किया जाए। ऑक्सीजन सिलेंडरों की कालाबाजारी करने वालों पर तत्काल कार्रवाई की जाए। आपदा में अवसर तलाश रहे मुनाफाखोरों पर भी कार्रवाई हो।कोविड महामारी के दौर में सभी निजी एंबुलेंस जब्त कर रेडक्रास समिति या शहर की कोई समाजसेवी संस्था के जिम्मे काम सौंपा जाए ताकि दमोह जिले में इलाज के अभाव में किसी की मौत न हो। इस कार्य में लघु व्यापारी संघ भी सहयोग करने तैयार है।

जिला अस्पताल और निजी अस्पतालों से सीटी स्कैन सेंटर तक मरीज को ले जाने के बदले में आधे किलोमीटर के डेढ़ से दो हजार रुपए तक वसूले जा रहे है वहीं जबलपुर जाने का किराया 15000 से शुरू होता है। ऑक्सीजन सिलेंडर की सुविधा के नाम पर एंबुलेंस चालक अतिरिक्त राशि वशूल रहे हैं लेकिन इस बात की कोई गारंटी नहीं है कि ऑक्सीजन का सिलेंडर भरा है या नहीं इसके बाद भी प्रशासन ने अपनी आंखों पर पट्टी बांध रखी है.

Related posts

ट्रैफिक जाम, खस्ताहाल सड़कें, नतीजा, मंगल हुआ अमंगल, देने जा रहे थे इम्तिहान, मिली मौत

Nishpaksh

आधारशिला संस्थान की पहल पर कटे-फटे होंठ /तालू की 35 सर्जरी सफलतापूर्वक संपन्न

Nishpaksh

मैं हूं डान गाने पर डांस करते हुए कांग्रेस विधायक ने किया फायर, गृहमंत्री ने दिए कार्रवाई के निर्देश

Admin

Leave a Comment