Nishpaksh Samachar
ताज़ा खबर
अन्यक्राइमग्रामीण भारतघटनाक्रमताज़ा खबरप्रादेशिकराजधानीराजनीति

टीनशेड से ढाँक दी लाखो रूपये की सोलर प्लेट्स, जिला चिकित्सालय का नया कारनामा

nishpaksh samachar

शहर का जिला चिकित्सालय हमेशा ही चर्चाओं और विवादों में घिरा रहता है फिर चाहे हाउसकीपिंग का मामला हो या वाहन पार्किंग या स्वच्छता या फिर गुणवत्ताहीन निर्माण कार्य या प्रबंधन द्वारा फिजूलखर्ची के मामले हर मोर्चे पर जिला चिकित्सालय चर्चाओं में है 

nishpaksh samachar
टीनशेड से ढके सोलर प्लेट
nishpaksh samachar
टीनशेड से ढके सोलर प्लेट

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

दमोह: अब एक नायाब मामला सामने आया है अस्पताल की बिल्डिंग के ऊपर टीनशेड लगा दिए गए है जबकि जानकारी अनुसार यह बिल्डिंग जीर्ण शीर्ण हो चुकी है पर उसे ऊपर से टीनशेड से ढँक दिया गया है ताकि बरसात का पानी बिल्डिंग में न भरे चौकाने वाली बात तो यह है कि पुरानी बिल्डिंग के ऊपर टीन शेड लगाने के लिये लाखों रुपए खर्च किये जा रहे है जबकि लोगों का कहना है कि यह कभी भी गिर सकते है और बड़ा हादसा हो सकता है पर ऊपरी कमाई के चक्कर में गुणवत्ता को सिरे से खरिज किया जा रहा है।

यह भी पढ़ें :- हादसे की कगार पर जिला चिकित्सालय, कमजोर बिल्डिंग पर किया निर्माण

आश्चर्यजनक तथ्य यह भी है कि पूर्व में यहां लगी लाखो रूपये की सोलर प्लेट्स अब टीनशेड लगने से ढक चुकी है जिससे इनका उद्देश्य भी पूर्ण रूप से समाप्त हो चुका है पर लगता हैं कि प्रबंधन को इससे कोई सरोकार नहीं जबकि टीनशेड लगाने के पहले सोलर प्लेट्स हटाने की प्रक्रिया पूर्ण कर लेनी थी जो नहीं की गई और अब प्रबंधन द्वारा उर्जा विभाग से देरी किये जाने का बहाना बनाया जा रहा है।

यह भी पढ़ें :- दमोह जिला अस्पताल में भ्रष्टाचार का खेल जारी, अधिकारी और ठेकेदार मिलकर सरकारी धन में लगा रहे सेंध

गौरतलब है कि बिजली की खपत की बढ़ती मांग और घटते उत्पादन के चक्र में तालमेल बैठाने के लिए यही विकल्प काम आने वाला है। इसलिए सरकार भी इसके इस्तेमाल को बढ़ावा दे रही है। पर जिम्मेदार इसके उपयोग के बारे में अब भी लापरवाह हैं। जब अस्पताल में सोलर प्लेट लग रहा था तो उस समय ऐसा लगा कि अस्पताल अब बिजली की समस्या नहीं रहेगी, परंतु सोलर प्लेट जिला अस्पताल के छत पर शोभा की वस्तु बनकर रह गई है। मरीज अंधेरे में रहते हैं। बिजली कटने के बाद जेनरेटर चालू होने तक पूरा अस्पताल अंधेरा में डूबा रहता है।

यह भी पढ़ें :- स्वास्थ्य केंद्र में समय पर नहीं मिलते डॉक्टर और कर्मचारी-परेशान होते रहते हैं मरीज

ज्ञातव्य हो कि जिस तरह बिजली कंपनियां हमारी बिजली की खपत में प्रति यूनिट के हिसाब से हमसे पैसे चार्ज करती हैं। ठीक वैसे ही अगर हम सोलर पावर के जरिए बिजली पैदा करें तो उसे वापस बिजली कंपनियों को देकर बिल में छूट पा सकते हैं।

यह भी पढ़ें :- जिला अस्पताल में वार्ड बॉय और डॉक्टर के बीच हुआ विवाद 

इस संबंध में जिला चिकित्सालय दमोह की सिविल सर्जन डॉ. ममता तिमोरी ने प्रतिक्रिया दी है उनका कहना है  ” सोलर प्लेट्स शिफ्ट करने का चल रहा है ऊर्जा विभाग में इन्फर्मेशन भेजना पड़ती है वहां से थोड़ा डिले हो रहा है”

Related posts

चोरी की वारदात के 8 आरोपी गिरफ्तार आरोपियों में सहायक आबकारी अधिकारी भी शामिल, अन्य 4 आरोपी फरार

Nishpaksh

आलमपुर पंचायत ने तीन वर्ष में एक करोड़ रूपये मजदूरो पर किये खर्च, फिर भी पलायन करने पर मजदूर विवश क्यों..?

Nishpaksh

नदी-बांध से सिंचाई पर लगेगी रोक – प्रहलाद पटैल

Nishpaksh

Leave a Comment