Nishpaksh Samachar
ताज़ा खबर
अन्यताज़ा खबरनारद की नज़रप्रादेशिकराजधानी

जिन निर्माण कार्यों का होना था निरीक्षण सिविल सर्जन ने वहां डलवा दिए ताले, नोटिस जारी

Notice issued to Civil Surgeon Mamta Timori

बीते दिनों हेल्थ कमिश्नर दमोह जिला अस्पताल के निर्माण कार्यों का निरीक्षण करने के लिए जिला अस्पताल पहुंचे थे। लेकिन जिन निर्माण कार्यों का निरीक्षण किया जाना था उन सभी जगहों पर दमोह जिला अस्पताल में पदस्थ सिविल सर्जन ने ताले डलवा दिए थे। इस पर सागर ज्वाइंट डायरेक्टर ने सिविल सर्जन ममता तिमोरी को नोटिस जारी करते हुए तीन दिनों में जवाब मांगा है.

दमोह – हमेशा अपने काम के तरीकों की वजह से सुर्खियों में दमोह जिला अस्पताल की सिविल सर्जन ममता तिमोरी को ज्वाइंट डायरेक्टर सागार ने नोटिस जारी किया है। दरअसल हेल्थ कमिश्नर और मध्यप्रदेश स्वास्थ्य विभाग के सचिव आकाश त्रिपाठी बीते दिनों दमोह जिला अस्पताल में चल रहे निर्माण कार्य के निरीक्षण के लिए जिला अस्पताल पहुंचे थे। इस दौरान उन्होंने देखा की जिन निर्माण कार्यों का निरीक्षण करने के लिए वे वहां पर पहुंचे हैं, उन पर ताला लगा हुआ है. जिसके बाद संबंधित अधिकारी को नोटिस जारी किया गया है।

यह भी पढ़ें – टीनशेड से ढाँक दी लाखो रूपये की सोलर प्लेट्स, जिला चिकित्सालय का नया कारनामा

नोटिस में साफ लिखा है कि इसके पहले भी जिला अस्पताल के दौरे के दौरान महिला और पुरुष वार्ड सहित जिला अस्पताल में फैली गंदगी को लेकर सख्त हिदायत दी गई थी। लेकिन उस पर भी संबंधित अधिकारी (ममता तिमोरी) द्वारा एक्शन नही लिया गया। लगातार लापरवाही के चलते ज्वाइंट डायरेक्टर की तरफ से जारी नोटिस में दमोह जिला अस्पताल की सिविल सर्जन ममता तिमोरी के खिलाफ मध्यप्रदेश सिविल सेवा आचरण के तहत कार्रवाई करने की बात कही गई है। नोटिस का जवाब देने के लिए तीन दिन का समय दिया गया है. 

Notice to Damoh District Hospital
नोटिस

यह भी पढ़े– जिला अस्पताल में प्रोफेशनल मैनेजमेंट नहीं दिखाई दिया– हेल्थ कमिश्नर

गौरतलब है कि इससे पहले 6 अगस्त को हेल्थ कमिश्नर आकाश त्रिपाठी ने जिला अस्पताल का जायजा लिया था। इस दौरान उन्होंने स्पष्ट कहा था कि जिला अस्पताल में प्रोफेशनल मैनेजमेंट की कमी है। जिला अस्पताल के काम करने के तरीकों और यहां पर पदस्थ डॉक्टर्स के व्यवहार पर निष्पक्ष समाचार पहले भी सवाल उठाता रहा है। जिला अस्तपताल में फैले भ्रष्टाचार, और अधिकारियों की मनमानी की वजह से मरीजों और उनके परिजनों को होने वाली परेशानियों की फैहरिस्त काफी लंबी है। 

यह भी पढ़ें – दमोह जिला अस्पताल में भ्रष्टाचार का खेल जारी, अधिकारी और ठेकेदार मिलकर सरकारी धन में लगा रहे सेंध

यह भी पढ़ें – जिला अस्पताल के किचिन की हालत से अंदाजा लगाया जा सकता है कि केंद्रीय मंत्री और अधिकारियों के दौरे सिर्फ दिखावा हैं

Related posts

2 करोड़ 37 लाख की राशि से भोपाल के पांच चौराहे विकसित होंगे

Nishpaksh

डीआरडीओ ने सतह से हवा में मार करने वाली मिसाइल आकाश-एनजी का सफल परीक्षण किया

Nishpaksh

ट्रैफिक जाम, खस्ताहाल सड़कें, नतीजा, मंगल हुआ अमंगल, देने जा रहे थे इम्तिहान, मिली मौत

Nishpaksh

Leave a Comment