Nishpaksh Samachar
ताज़ा खबर
अन्यक्राइमग्रामीण भारतघटनाक्रमताज़ा खबरप्रादेशिकराजधानीराजनीति

काले हीरे के काले कारोबार से वन विभाग बेखबर.!

nishpaksh samachar

जिले के विभिन्न वनपरिक्षेत्रों से लगातार अवैध खनन औऱ कीमती पेड़ों की कटाई के मामले सामने आते रहते है पर वन विभाग के अधिकारी इस अवैध कारोबार को रोकने और कार्रवाई करने में कोई दिलचस्पी नहीं ले रहे है।

दमोह: जिले में अवैध हरे भरे वृक्षों की कटाई और कोयले के अवैध कारोबार का ऐसा ही एक बड़ा मामला सिग्रामपुर और सेलवाड़ा वनक्षेत्र का सामने आया है बताया जा रहा है कि वन विभाग के क्षेत्रीय कार्यालय से कुछ ही दूरी पर जिले के सिग्रामपुर और सेलवाड़ा के मध्य जिसे कटंगी सर्किल के नाम से भी जाना जाता है।

nishpaksh samachar
इस तरह होती है वृक्षों की कटाई

सिग्रामपुर और सेलवाड़ा वनक्षेत्र में भूमि से गायब हो रहे जंगल

यहां के ग्राम ताला, रिमझिर और मेहगुवा के मध्य स्थित घटिया व नाले के पास, सैकड़ों एकड़ वनभूमि के पेड़ों को काटकर न सिर्फ जंगल नष्ट किया जा रहा है, बल्कि पत्थरों का घेरा बनाकर इनके मध्य कटे पेड़ों को रखकर जलाया जा रहा है और कोयला बना कर आस पास और अन्य जिले में बेचने के लिये भेज जा रहा है। यहां पर अवैध खनन कर पत्थर भी निकाले जा रहे है।

nishpaksh samachar
कीमती वृक्षों की कटाई

भारी मात्रा में जारी है अवैध कटाई और उत्खनन:

ग्रामीणों ने बताया कि इस सर्किल में कई एकड़ वनभूमि के सैकड़ो पेड़ों को काट कर प्रतिवर्ष कोयला बनाया जाता है जिसमें विशेष रूप से ग्राम ताला व अन्य गांव के लोगों की मिलीभगत होती है। पहाड़ी क्षेत्र और जंगल होने के कारण लोग घाटी से टोली बना कर पैदल आते है औऱ यहां के लोगों को शामिल कर कटे पेड़ों का भट्टा लगाकर कोयला बनाते है और महंगे दामों में बेच देते है।

Nishpaksh samachar
यहां लगता है कोयले का भट्टा

कब होता है काले हीरे का काला कारोबार..?

काले हीरे के नाम से जाना जाने वाले कोयले का यह काला कारोबार अक्टूबर माह से प्रारंभ होकर फरवरी तक चलता है, इस कारण यहां भिरा और साज प्रजाति के पेड़ों को बहुत नुकसान हुआ है। परंतु आश्चर्य यह है कि प्रतिवर्ष यहां गैरकानूनी काम होता है पर विभाग को इसकी खबर नहीं है।

जानिए जिम्मेदारों की प्रतिक्रिया

इस घटना की जानकारी जब अधिकारियों को दी गई तो विभाग के डीएफओ बी. पटेल व और रेंजर बी. सिंह जांच करवाने की बात कह रहे है वहीं डिप्टी रेंजर एच के महोबिया का कहना है “मुझे यहां आए 6-7 महीने ही हुए है स्थिति कंट्रोल में है और दिखवा लेते है”

 

Related posts

पत्नी की फरमाईश : पति को हो जाए जेल और पड़ोसी की हो जाए वेल

Nishpaksh

श्री कस्तूरी फ़ूड प्रोसेसिंग यूनिट से 26 हज़ार रुपये की खाद्य सामग्री के जब्त

Nishpaksh

किसानों का शोषण करने में जुटी केंद्र सरकार -प्रजु यशोधरन

Nishpaksh

Leave a Comment