Nishpaksh Samachar
ताज़ा खबर
अन्यग्रामीण भारतताज़ा खबरप्रादेशिकराजधानीराजनीति

CORONA UPDATE : मई के पहले सप्ताह में हजार के पार कोरोना, कुल एक्टिव केस 2427, प्रशासन ने बढ़ाई सख्ती

दमोह जिले में शुक्रवार को 144 नए कोरोना संक्रमित मरीज सामने आए इसके साथ ही जिले में कुल एक्टिव संक्रमितों का आंकड़ा 2427 पहुंचा वहीं अब तक 115 लोगों की मौत हो चुकी है. 

दमोह- प्रदेश में कोरोना संक्रमण के मामले लगातार बढ़ रहे हैं. ऐसे में बगैर लक्षणों के पॉजिटिव आने वाले मरीजों की संख्या ने स्वास्थ्य विभाग की नींद उड़ा कर रख दी है. कोरोना वायरस से फैले संक्रमण ने दमोह जिले को अपनी चपेट में रखा है. बीते सात दिनों में हालात और भी बुरे कर दिए हैं. जिले में कोरोना संक्रमण की रफतार गति पकड़ रही है और प्रशासन द्वारा इसकी रोकथाम के लिए उठाए जा रहे कदम नाकाफी साबित हो रहे हैं. हालात यह हैं कि शहरी इलाकों की तुलना में ग्रामीण अंचलों में भी कोरोना से मौत के मामले सामने आ रहे हैं. ऑक्सीजन और रेमेडिसिवीर इंजेक्शन की किल्लत ने मरीजों की समस्या और बढ़ा दी है स्थिति यह है कि सामान्य बीमारी से ग्रसित मरीज भी अपने साथ ऑक्सीजन सिलेंडर लेकर जिला अस्पताल जा रहा है.

मई के पहले सप्ताह में पॉजिटिव मामले

कोरोना के नए म्यूटेंट की वजह से दमोह जिले में बगैर लक्षण के भी कोरोना संक्रमण के केस सामने आ रहे हैं. ऐसे में डॉक्टर भी कोरोना टेस्ट कराने की जगह सीटी स्टैन कराने की सलाह दे रहे हैं. स्थिति यह है कि रोजोना लिए जा रहे कुल कोविड सैंपल की संख्या रोजोना होने वाली सीटी स्कैन से कही कम हैं. सीटी स्कैन की फीस ज्यादा होने की वजह से लोगों को कोरोना जांच की तुलना में अधिक पैसा खर्च करना पड़ रहा. जिले में कोरोना वायरस फैलने की एक वजह RT-PCR रिपोर्ट का देरी से मिलना भी है. दमोह से कोरोना की जांच के लिए भेजे गए सैंपल की रिपोर्ट में अन्य जिलों की तुलना में अधिक समय लग रहा है. जिस वजह से सैंपल देने वाला व्यक्ति कोरोना संबंधी जरुरी ट्रीटमेंट के लिए अपनी रिपोर्ट का इंतजार करता है और इस बीच वह ना जाने कितने से मिल चुका होता है. अभी की बात करें तो सागर संभाग के अन्य जिलों के सैंपल जांच के लिए सागर या भोपाल भेजे जा रहे हैं जबकि दमोह के सैंपल पुणे भेजे जा रहे हैं जिससे रिपोर्ट आने में ज्यादा समय लग रहा है. कुछ लोगों की रिपोर्ट 7-8 के बाद भी नहीं मिली.

प्रशासन ने बढ़ाई सख्ती

जिले में बढ़ते कोरोना संक्रमण पर अंकुश लगाने के लिए अब दमोह प्रशासन गंभीर होता नजर आ रहा है. शुक्रवार को जिला कलेक्टर तरुण राठी ने कोरोना संक्रमण पर अंकुश लगाने के लिए महत्वपूर्ण फैसले लिए. प्रदेशभर में लागू कोरोना कर्फ्यु” के दौरान दमोह जिले के राजस्व सीमा में शादी, विवाह तथा समस्त प्रकार के सामाजिक कार्यक्रम पूर्णत: प्रतिबंधित रहेंगे इसके साथ ही जिले में देशी वा अंग्रेजी शराब की खरीद वा विक्री सहित भंडारण पर पूर्णतः रोक रहेगी. कलेक्टर के निर्देश पर जिला पंचायत सीईओ अजय श्रीवास्तव ने शुक्रवार को जिले की तहसील पथरिया के ग्राम टीला और आलमपुर पहुंचकर कोविड-19 कंटेनमेंट क्षेत्रों का जायजा लिया साथ ही पथरिया ब्लॉक के ग्राम किद्रहो में चल रहे सर्वे का और कन्टेनमेट एरिया का निरीक्षण किया।

Related posts

अतिक्रमण कर बनाया चर्चित मिशन अस्पताल की भूमि खाली करने नोटिस जारी

Nitin Kumar Choubey

किनोवा अत्यंत मूल्यवान एवं लाभकारी फसल

Nishpaksh

नारद की नजर : भविष्य की कैसी उज्जवल होगी भाजपा, 6 सदस्य फिर भी हार गए हम

Nishpaksh

Leave a Comment