Nishpaksh Samachar
ताज़ा खबर
अन्यग्रामीण भारतताज़ा खबरप्रादेशिक

मांझी समाज ने शुरू किया देवी विसर्जन के लिए तालाब की सफाई का अभियान, प्रशासनिक उपेक्षा का शिकार शहर का फुटेरा तालाब

दमोह – लंबे समय से उपेक्षा की मार झेल रहा शहर का ऐतिहासिक फुटेरा तालाब के चारों ओर फैली गंदगी इसे दूषित कर रही है। गंदगी को लेकर समाजसेवियों ने आवेदन देकर अनेक बार अपनी शिकायत दर्ज कराई है। परंतु जिम्मेदार अधिकारियों ने उनकी एक न सुनी, तब फुटेरा वार्ड नंबर 5 के मांझी समाज के लोगों ने देवी विसर्जन के लिए तालाब को साफ करने का बीड़ा उठा लिया।

Nishpaksh Samachar
फुटेरा तालाब में फैली गंदगी

आज से समाज के दर्जनों युवाओं ने फुटेरा तालाब की सफाई करने का अभियान चलाना शुरू कर दिया उक्त सराहनीय काम में बुजुर्ग से लेकर बच्चे तक सक्रिय रहे और आने वाले कुछ दिनों में तालाब को बड़े स्तर तक साफ करने की बात कही मांझी समाज के युवाओं का उदेश्य है कि नवरात्री के समापन तक दुर्गा विसर्जन करने के लिए साफ सुथरा घाट उपलब्ध कराया जा सके।

Nishpaksh Samachar
सफाई अभियान के बाद निकाली गई गंदगी

नवरात्रि प्रारंभ होने से पहले पितृपक्ष में शहर के लोग अपने पूर्वजों को याद करने के साथ फुटेरा तालाब में तर्पण के लिए जाते हैं लेकिन इस बार तालाब के आसपास कुछ देर के लिए खड़ा होना मुश्कित था और सनातनी हिंदू दूषित पानी से आचमन भी करते रहे।

Nishpaksh Samachar
सफाई अभियान चलाते लोग

सिंघाड़ा की खेती के बाद छोड़ी गई जलकुंभी तालाब को दूषित कर रागी गई जिसके कारण तालाब से बदबू आती है। प्रशासन बारिश का पानी सहेजने के लिए जोर तो देता है लेकिन फुटेरा तालाब के घाटों की गंदगी साफ न होने से पानी बदबूदार हो गया है।

Nishpaksh Samachar
फुटेरा तालाब सफाई अभियान से जुड़े लोग

दमोह नगर के तालाब- दमोह नगर चारों ओर 5 निस्तारी तालाब हैं। नगर की उत्तर दिशा को फुटेरा तालाब है। फुटेरा तालाब गौंड शासनकालीन है। दूसरा तालाब तुगलक शासनकालीन है जिसे पुरैना तालाब कहा जाता है। तीसरा तालाब दीवान की तलैया कहलाती है जिसे मराठा हाकिम दीवान बालाजी ने बनवाया था। बालाजी दीवान की पत्नी इसी तलैया के किनारे सती हुई थी। चौथा तालाब वेला तालाब कहा जाता है। यह तालाब अंग्रेजी शासनकाल का है। यहां का पांचवा तालाब राजनगर तालाब कहा जाता है इसका प्राकृतिक दृश्य बड़ा मनोरम है।

Related posts

सिंगौरगढ़ क्षेत्र को नेशनल ट्राईबल टूरिज्म हब के रुप में करें विकसित – राष्ट्रपति कोविन्द

Nitin Chaubey

बेटे की हरकतों से परेशान पिता ने अपनी आधी संपति पालतू श्वान के नाम की

Nishpaksh

राजगढ़ एमपी। आदिम जाति कल्याण विभाग के जिला संयोजक निलंबित

Nishpaksh

Leave a Comment