Nishpaksh Samachar
ताज़ा खबर
अन्यक्राइमग्रामीण भारतघटनाक्रमताज़ा खबरराजनीतिस्थानीय मुद्दा

अस्पताल के डॉक्टर के खिलाफ लामबंद हुआ प्रेस क्लब, कलेक्टर को सुनाई समस्या, सौंपा ज्ञापन

दमोह जिला अस्पताल

दमोह :– जिले का एक मात्र सरकारी अस्पताल में फैली अव्यवस्था और भ्रष्टाचार की खबरें प्रकाशित करना दमोह के पत्रकारों के लिए भारी पड़ गया और डॉक्टर ने उसके खिलाफ मामला दर्ज करा दिया, अब तो हालत यह है कि जिला अस्पताल के डॉक्टर पत्रकारों से सीधे मुंह बात तक नहीं करते। डॉक्टर पत्रकारों को कवरेज तक नही करने देते जिसके लिए वह तत्कालीन कलेक्टर एस कृष्ण चैतन्य के उस आदेश का लगातार हवाला देते है जिसमे उन्होंने आम जनता को अस्पताल के भीतर वीडियो फोटोग्राफी करने की मनाही की थी।

Read also :- यह कैसा सरकारी अस्पताल..? सरकारी डॉक्टर अपने निजी क्लीनिक में बुला रहे मरीज, सीएस कर रही मामला बैलेंस

ताजा मामला रविवार सुबह का है, बताया जा रहा है कि जिला अस्पताल में एक मरीज के इलाज में लापरवाही के चलते परिजनों ने एक मीडिया कर्मी को फोन लगाकर समस्या बतलाई, पीड़ित की समस्या जानकर मीडिया कर्मी लवी दुबे अस्पताल पहुंचा तो डॉक्टर ने उससे अभद्रता करी, मीडिया कर्मी ने बताया कि डॉक्टर आरिब खान मरीज के बुजुर्ग परिजनों से अभद्र भाषा में बात कर रहे थे, जब मैने बुजुर्ग से ऐसी भाषा में बात करने से रोका तो डॉक्टर खान ने उसके साथ भी अभद्रता की ओर झूठी रिपोर्ट दर्ज करने की धमकी दी, यही नहीं सुबह डॉक्टर आरिब खान ने पुलिस थाना जाकर मीडिया कर्मी पर गंभीर धाराओं में मामला भी दर्ज करा दिया।

Read also :-  जिला अस्पताल में प्रोफेशनल मैनेजमेंट नहीं दिखाई दिया– हेल्थ कमिश्नर

जिसके बाद प्रेस क्लब के सभी इलेक्ट्रॉनिक और प्रिंट मीडिया के लोग कलेक्टर के पास पहुंचे और अस्पताल में हो गड़बड़ी की जानकारी दी और अस्पताल प्रबंधन पर कार्रवाई करने और एफआईआर से उसका नाम हटाने की मांग की और एक ज्ञापन सौंपा।
दरअसल दमोह जिला अस्पताल के डॉक्टर अपनी तानाशाही रवैए के कारण हमेशा मीडिया की सुर्खियां बनते है। जिस कारण अब डॉक्टर मीडिया कर्मियों को देखकर ही भड़क जाते हैं। जिला अस्पताल का आलम यह है कि अगर कोई आम आदमी भी कभी अस्पताल की शिकायत सीएम हेल्प लाइन में करदे तो सभी डॉक्टर प्रशासनिक दबाव बनाकर उस शिकायतकर्ता पर भी मामला दर्ज करा देते हैं।

Read also :-  हादसे की कगार पर जिला चिकित्सालय, कमजोर बिल्डिंग पर किया निर्माण

बीते दिनों एक कैंसर पीड़ित मरीज के परिजन ने सीएम हेल्प लाइन पर मरीज को हो रही असुविधा की शिकायत की थी, उसके बाद अस्पताल स्टॉप ने मरीज के परिजनों के खिलाफ सरकारी काम में अवरोध और अन्य बातों को लेकर दमोह कोतवाली में मामला दर्ज कराया था। मरीज विद्या ठाकुर के पुत्र आदर्श ठाकुर का आरोप था कि सीएम हेल्प लाइन में 22182585 शिकायत दर्ज करने पर यह पुलिस रिपोर्ट दर्ज कराई है, उसका आरोप था कि अस्पताल वाले उन्हें शिकायत वापस लेने का दबाव बना रहे हैं।

Read also :-  दमोह जिला अस्पताल में भ्रष्टाचार का खेल जारी, अधिकारी और ठेकेदार मिलकर सरकारी धन में लगा रहे सेंध

अब देखना होगा जिला अस्पताल के डॉक्टर प्रशासनिक अधिकारीयों को किस तरह दबाव में लेते हैं.? क्या फिर अपनी मनमानी करने हड़ताल का सहारा लेंगे या फिर इस्तीफा की धमकी देकर झूठे मुक़दमे दर्ज कराएँगे.? और देखने वाली बात तो यह भी होगी कि प्रशासन कितना कैसे क्या सहयोग करता है..?

Related posts

इंदौर: सराफा बाजार स्थित गोल्डन ज्वैलरी के कारखाने से 60 लाख का माल उड़ा ले गए चोर

Nishpaksh

नर्मदा में बाढ़ के बाद घाटों पर बढ़ाई निगरानी, अलर्ट मोड पर प्रशासन

Nishpaksh

महाकाल मंदिर के अंदर मिली पत्थर की दीवार

Nishpaksh

Leave a Comment