Nishpaksh Samachar
ताज़ा खबर
अन्यक्राइमग्रामीण भारतघटनाक्रमताज़ा खबरप्रादेशिकराजधानीराजनीति

दमोह जिला अस्पताल में भ्रष्टाचार का खेल जारी, अधिकारी और ठेकेदार मिलकर सरकारी धन में लगा रहे सेंध

nishpaksh samachar

दमोह शहर के सरकारी जिला अस्पताल के अधिकारी अपनी मनमर्जी से अस्पताल परिसर में निर्माण के जरिये सरकारी फंड का दुरुपयोग कर रहे हैं। बीते दिनों अस्पताल परिसर में ट्रॉमा सेंटर के पास तार फैंसिंग की गई थी जिसे अब निकाल कर अलग कर उसकी जगह लाखों रुपए खर्च कर लोहे के पिलर खड़े कर टीनशेड लगाया जा रहा हैं। इस फिजूलखर्ची के लिए सिविल सर्जन ममता तिमोरी मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी संगीता त्रिवेदी के लिए जिम्मेदार मानती है, वह कहती है कि सीएमएचओ ने बगैर कोआर्डिनेशन के जाली लगवाई थी जिसे हटाकर टीनशेड लगाया जा रहा है और यहां चार पहिया वाहनों के लिए स्टैंड बनाया जा रहा है। गौरतलब है कि जहां पर यह पिलर खड़े किए गए हैं वहां का रास्ता बेहद संकीर्ण है जिससे बड़े वाहनों को एमसीएच भवन तक जाने में दिक्कतों का सामना करना पड़ता है।

यह भी पढ़ें :- महाविद्यालयों में हो रहे वेबिनार की धरातलीय वास्तविकता 

nishpaksh samachar
कचरे में डली तार फेंसिंग की जाली
nishpaksh samachar
सकरे मार्ग पर लगे पिलर और जालियां

45 लाख की लागत से बने धुलाई घर का हो रहा निजी उपयोग:- अस्पताल में अव्यवस्थाओं का आलम यह है कि जिला अस्पताल के गंदे कपड़ों की धुलाई के लिए बीते साल करीब 45 लाख रूपये की लागत से धुलाई घर का निर्माण कराया गया था। इस भवन को जुलाई 2020 में अस्पताल प्रबंधन के सुपुर्द भी कर दिया गया, लेकिन लाखों रूपये की लागत से बनाये गए इस धुलाईघर में आज तक एक भी कपड़ा धुलने के लिए नहीं आया। इसके इतर धुलाईघर में नीमच से आये किसी अधिकारी की गृहस्थी का सामान रखा हुआ मिला, जिसमें बिस्तर, वर्तन, वाहन सहित अन्य घरेलू उपयोगी सामान शामिल है। जिन मजदूरों ने इस सामान को धुलाईघर में शिफ्ट किया उन्हें उस अधिकारी का नाम तक नहीं पता था।

यह भी पढ़ें :- तहसीलदार बबीता राठौर की कार्यशैली को लेकर जताई आपत्ति, उधर कमिश्नर ने मांगा स्पष्टीकरण

nishpaksh samachar
धुलाईघर में रखें बिस्तर
nishpaksh samachar
गृहस्थी का अन्य सामान

 

nishpaksh samachar
धुलाईघर

साफ-सफाई का नहीं दिया जा रहा ध्यान:- बेहतरीन स्वास्थ्य सेवाओं की दुहाई देने वाले इस अस्पताल की सफाई व्यवस्था भी अप्रशिक्षित हांथो में होने की वजह से लाखों रुपयों की मशीन धूल खा रही हैं। सरकारी निमय के अनुसार जिस ठेकेदार को अस्पताल की साफ सफाई का जिम्मा दिया जाता है उसे कम से कम 100 बेड वाले अस्पताल में सफाई करने का अनुभव होना चाहिए। लेकिन यहां मामला कुछ और ही है। सफाई कर्मियों की माने तो अभी हाल ही में जिस एजेंसी को सफाई व्यवस्था की जिम्मेदारी मिली है उसको तीन वर्ष पहले भी यही जिम्मेदारी मिली थी लेकिन उक्त एजेंसी पर सफाई कर्मियों की तनख्वाह लेकर रफूचक्कर होने के आरोप लगाए जा रहे हैं। यही हाल सुरक्षा व्यवस्था का है सुरक्षा व्यवस्था में लगे लोग आए दिन अस्पताल आने वालों के साथ गाली गलौच करते कैमरा में कैद हो रहे हैं।

यह भी पढ़ें :- राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद 07 मार्च को आयेंगे दमोह, 30 करोड़ की लागत से सरंक्षण संर्वधन के कार्यों का करेंगे भूमि पूजन

nishpaksh samachar
नये ठेकेदार का विरोध करते सफाई कर्मी
nishpaksh samachar
हाउसकीपिंग

अव्यवस्थित वाहन पार्किंग से बाधित होती इमरजेंसी सेवाएं:- अस्पताल परिसर लगभग 6-7 एकड़ में फैला हुआ है। लेकिन इसके अधिकांश हिस्से पर भवन बना दिये गए हैं जिससे पार्किग व्यवस्था चौपट हो गई है। अव्यवस्थित वाहन पार्किंग के इमरजेंसी सेवाएं भी प्रभावित हो रही हैं।

यह भी पढ़ें :- देश की पहली चिकित्सा शिक्षा छात्र बीमा योजना मध्यप्रदेश में होगी शुरू 

Related posts

दौसा में पथराव के बाद गोलीबारी, 2 की मौत, तीन महीने पहले हुए दुर्घटना को लेकर हुआ विवाद

Nishpaksh

बरसों इंतजार के बाद पाकिस्तान से रिहा हुआ बारेलाल

Nishpaksh

मध्यप्रदेश: Global Investors Summit 2023: प्रधानमंत्री मोदी बोले- एमपी गजब है, अजब है और सजग भी है।

Nishpaksh

Leave a Comment