Nishpaksh Samachar
ताज़ा खबर
अन्यक्राइमग्रामीण भारतघटनाक्रमताज़ा खबरप्रादेशिकराजधानीराजनीति

होटलों में परोसी जा रही शराब..आबकारी विभाग नहीं खुलवाएं गायब हुए अहाता

यहां शराब पीना सख्त मना है, आज्ञा से पुलिस अधीक्षक जैसे स्लोगन हर ढाबे, होटल व रेस्टोरेंट में चस्पा हैं, लेकिन हकीकत में खुलेआम इसी आदेश का मखौल उड़ाया जाता है। शाम ढलते ही दमोह शहर बल्कि जिले के कुछ होटल, ढाबे व रेस्टोरेंट मयखाने बन जाते हैं। सबकुछ जानने के बावजूद जिम्मेदार इन पर कोई कार्रवाई नहीं कर रहे है। इससे होटल, ढाबा संचालकों के हौसले बुलंद होते जा रहे हैं।

दमोह :- होली व विधानसभा उपचुनाव के मद्देनजर जिले में आबकारी विभाग और पुलिस की टीम लगातार अवैध शराब बेचने व बनाने वालों के खिलाफ कार्रवाई कर रही है। वहीं दमोह शहर के कुछ होटल ऐसे है जहां सूरज ढ़लते ही होटल में गेस्ट नहीं बल्कि शराब खरीदकर पीने वालों का इंतजार होता है। कुछ होटल शराब दुकानो के बगल में संचालित हो रहे है जहाँ कभी अहाता हुआ करते थे।

यह भी पढ़ें :- हादसे की कगार पर जिला चिकित्सालय, कमजोर बिल्डिंग पर किया निर्माण

आबकारी विभाग ने अभी तक बंद हुए अहाता शुरू नहीं करवाया जिससे विभाग को भी लाखों रूपये के राजस्व की हानि होने का अंदेशा भी है क्योकि शराब दुकान की लायसेंस फ़ीस से कुछ फीसदी राशि से अहाता का लायसेंस दिया जाता है। जिसके पीछे विभाग कोरोना वायरस के प्रकोप का बहाना बना रहा है विभाग का कहना है वायरस के चलते अहाता बंद हुए थे जिन्हें शुरू करने का आदेश नही मिला है।

यह भी पढ़ें :- टीनशेड से ढाँक दी लाखो रूपये की सोलर प्लेट्स, जिला चिकित्सालय का नया कारनामा

शहर कोतवाली से चंद कदमों की दूरी होने के बावजूद भी पुलिस होटल संचालकों के खिलाफ कार्रवाई करने से परहेज करती है, जबकि जिले में आदर्श चुनाव आचार संहिता लागू है। जिले मे विधानसभा उपचुनाव स्वतंत्र एवं निष्पक्ष कराने के उद्देश्य से अवैध शराब को नियंत्रित करने के लिए जिला निर्वाचन अधिकारी तरूण राठी के जिला आबकारी अधिकारी को निर्देशन के बाद 20 प्रकरण आबकारी अधिनियम 1915 की धारा 34(1) के कायम किये गये है, जिनमे लगभग 95 लीटर शराब तथा लगभग 600 कि.ग्रा. महुआ लाहन जप्त कर आरोपियो के विरूद्ध कार्यवाही की जानकारी लगी है।

यह भी पढ़ें :- रूठे नही माने तो होगा त्रिकोणीय मुकाबला… ,स्थानीय मुद्दे और प्रत्याशी के चेहरे भी डालेंगे असर.!

विधानसभा उपचुनाव के चलते विभाग द्वारा पकड़ी गई शराब से अवैध शराब कारोबार के नियंत्रण के दावों की पोल खुल गई हैं। जबकि शहर में अनेक होटल, रेस्टोरेंट में शराब मयखानों की तरह परोसी जा रही है, जिसके कारण शहर में भी अवैध शराब का कारोबार तेजी से बढ़ रहा है।

Related posts

आचार्य विद्यासागर गौ-संवर्धन योजना में 10 लाख तक ऋण लेकर शुरू कर सकते हैं स्वयं का रोजगार

Nishpaksh

विकास का नाम बीजेपी और सत्यानाश का कांग्रेस _जेपी नड्डा

Nishpaksh

पर्यटन एवं वन विभाग के आपसी समन्वय से राहतगढ़ वाटरफॉल में किये जाएँगे विकास कार्य -प्रमुख सचिव शुक्ला

Nishpaksh

Leave a Comment