Nishpaksh Samachar
ताज़ा खबर
अन्य

Belly Fat : बेली फैट बर्न करने के लिए बेस्ट हैं ये 5 योगासन

बहुत से लोग सोचते हैं कि मोटापा खासकर पेट की चर्बी कम करना मुश्किल है। विशेषज्ञों के अनुसार, पेट की चर्बी कम करने के लिए अच्छा खाना और बार-बार व्यायाम करना सबसे अच्छा तरीका है।

कोलेस्ट्रॉल शरीर में जमा होने के कारण कई स्वास्थ्य समस्याओं का कारण बनता है। मोटापा आपके शरीर में कई नकारात्मक प्रभाव डालता है। यह आपके नींद चक्र को बाधित करता है, आपको अधिक थका देता है, और हृदय रोग, मधुमेह, गुर्दे की पथरी और बांझपन सहित कई गंभीर बीमारियों को जन्म देता है।
लेकिन बहुत से लोग सोचते हैं कि मोटापा खासकर पेट की चर्बी कम करना मुश्किल है। विशेषज्ञों के अनुसार, पेट की चर्बी कम करने के लिए अच्छा खाना और बार-बार व्यायाम करना सबसे अच्छा तरीका है। इसलिए, यदि आप सपाट पेट का सपना देख रहे हैं, तो विशेषज्ञ कहते हैं, सही खाएं और अधिक व्यायाम करें।
इसमें कोई शक नहीं है कि योग शरीर की चर्बी को पिघलाने का सबसे अच्छा तरीका है। योग शरीर के समग्र स्वास्थ्य के लिए अच्छा है लेकिन यदि आप पेट की चर्बी कम करने पर ध्यान केंद्रित करने वाले योगासन करते हैं तो आप सबसे अच्छे परिणाम की उम्मीद कर सकते हैं।
“पेट की चर्बी बहुत खतरनाक है। यह आपके स्वास्थ्य को खतरे में डाल सकता है। यदि आपका पेट बड़ा है तो आपको मधुमेह, हृदय रोग, उच्च रक्तचाप और मोटापे सहित कई बीमारियाँ होने की संभावना है।

हालांकि, योगासन आपको वजन कम करने और आपके पेट को सुरक्षित और प्रभावी तरीके से टोन करने में मदद कर सकते हैं।”
बेली फैट से छुटकारा पाने के लिए बेस्ट हैं ये योगासन
1. हलासन या हल मुद्रा
*अपनी पीठ पर लेटो। अपनी हथेलियों को अपने बगल में फर्श पर रखें।
*अपने पेट की मांसपेशियों का उपयोग करते हुए अपने पैरों को 90 डिग्री तक उठाएं।
*अपनी हथेलियों को फर्श पर मजबूती से रखें।
*पैरों को धीरे-धीरे सिर के पास लाएं।
*यदि आवश्यक हो, तो अपनी हथेलियों से अपनी पीठ के निचले हिस्से को सहारा दें।
* स्वाभाविक रूप से सांस लें।
* इस मुद्रा में 15 से 20 सेकंड तक रहें।
2. चक्रासन या चक्र मुद्रा
*सबसे पहले आप पीठ के बल लेट जाएं
* हाथों को कंधों के ऊपर फर्श पर रखें।
*अपनी बाहों और पैरों पर वजन डालें और अपने ऊपरी शरीर को एक आर्च की तरह उठाएं। अपने सिर को फर्श से छूते रहें।
*अपने पैरों को दबाएं और अपने पैरों, कूल्हों और पेट को ऊपर उठाएं।
* सुनिश्चित करें कि आपके पैर और हाथ आपका वजन सहन करें।
* अपने शरीर को आर्क करें। गहरी सांस लें।
* इस आसन को 15 से 20 सेकेंड तक करें।
3. धनुरासन या धनुष मुद्रा
* पेट के बल लेट जाएं और गहरी सांसें लें।
* अपने हाथ और पैर ऊपर उठाएं।
*ऊपर देखें और धीरे-धीरे अपने हाथों से पैर को पकड़ें।
* इस आसन को ऐसे ही 15 से 20 सेकेंड तक करें।
4. संथोलासन या प्लैंक पोज
* सबसे पहले पेट के बल लेट जाएं।
*अपने हाथों को अपने कंधों के नीचे रखें।
*अपने कूल्हों, घुटनों और पीठ के ऊपरी हिस्से को ऊपर उठाएं।
* अपने पैर की उंगलियों को फर्श पर रखें।
*जांचें कि आपकी पीठ, कूल्हे और घुटने ठीक से एक सीध में हों।
* अपनी कलाइयों, अपनी भुजाओं को अपने कंधों के नीचे सीधा रखें और धीरे-धीरे सांस लें।
5. वशिष्ठासन या साइड प्लैंक पोज
* यह संथालासन मुद्रा की निरंतरता है। इसलिए इसकी शुरुआत संतोलानासन से ही करें।
*साथ ही धीरे-धीरे दाहिनी ओर मुड़ें और बायीं हथेली को ऊपर उठाएं।
*अपने पैरों को एक साथ रखें।
* इसके बाद बायीं ओर मुड़ें और दायीं हथेली को ऊपर उठाएं।

Related posts

खेलों के विकास के लिए नहीं रुकेंगे प्रयास- मुख्यमंत्री चौहान

Nishpaksh

नारद की नजर : भविष्य की कैसी उज्जवल होगी भाजपा, 6 सदस्य फिर भी हार गए हम

Nishpaksh

मध्यप्रदेश में अलर्ट जारी, कोरोना के बाद अब यह वायरस खतरा बनकर मंडरा रहा

Nishpaksh

Leave a Comment