Nishpaksh Samachar
ताज़ा खबर
अन्यग्रामीण भारतताज़ा खबरनारद की नज़रराजनीतिस्थानीय मुद्दा

कार्यकाल बीत रहा हटा विधायक को नहीं पता ब्लाॅक में कौन है अधिकारी, बजट सत्र में जनता से जुड़ा मुददा न उठाकर पूंछा महिला बाल विकास में कौन है अधिकारी

दमोह- हटा विधायक पुरषोत्तम लाल तंतुवाय का कार्यकाल बीत रहा है, बजट सत्र में उन्होंने मात्र एक सवाल विधानसभा में लगाया है, जिसमें उन्होंने महिला बाल विकास की हटा व पटेरा परियोजना में पदस्थ अधिकारी व कर्मचारियों की जानकारी चाही गई है। हटा विधायक ने विधानसभा में प्रश्न किया है कि महिला बाल विकास विभाग की हटा व पटेरा परियोजना में कौन-कौन परियोजना अधिकारी व पर्यवेक्षक पदस्थ हैं, कब से पदस्थ हैं और इन्हें कितने साल तक पदस्थ किया जा सकता है। 

हटा विधायक का यह सवाल इस तरह लगाया गया है, जैसे कोई नव पत्रकार फील्ड में उतरते ही अपनी पहली आरटीआई लगाता है। अब हटा विधायक ने यह सवाल क्यों और किस मंशा से पूछा है यह सवाल उठाकर महिला बाल विकास परियोजना में कौन सा बदलाव लाने वाले हैं इसका उत्तर तो वह स्वयं दे सकते हैं, लेकिन इस तरह के सवालों का औचित्य क्या है यह समझ से परे है। 

हटा विधायक अपने पूरे कार्यकाल मौन धारण किए हुए थे, उनका मौन विकास यात्रा के दौरान तब टूटा जब उन्होंने ग्राम पंचायत सचिव के जवाब से असंतुष्ट होकर सीइओ से शिकायत कर उसे निलंबित कर दिया। विधायक पक्ष हटा विभाग के इस स्टंट को नायक तक कहने से नहीं हिचक रहा है, लेकिन हटा के नायक को पंचायत सचिव को उस समय क्यों निलंबित कराना पड़ा जब वह विकास यात्रा लेकर निकले हुए थे। 

आपको बता दें हटा विधायक पुरषोत्तम लाल तंतुवाय बैंक मैनेजर के पद से सेवानिवृत्त हुए थे। भाजपा ने उन पर दाव खेला हटा की जनता ने अपना विश्वास जताया कि एक कुशल प्रबंधक हटा विधानसभा क्षेत्र की समस्याओं का भी प्रबंधन करेंगे, लेकिन वह जनता की उम्मीद पर खरे नहीं उतरे। पूरे कार्यकाल छत्रप नेताओं के पीछे मौन खड़े दिखाई दिए। 

विधायक द्वारा इस तरह से सवाल उठाए जाने से जनता के मन में एक सवाल उठ रहा है कि विधायक को अपने अधिकारों व कर्तव्यों का जरा भी भान नहीं है, वह एक क्षेत्र का निर्वाचित जन प्रतिनिधि है, यदि वह जिला महिला बाल विकास अधिकारी को काॅल कर देता तो अधिकारी पूरी सूची उनकी टेबल पर रख देता, लेकिन उन्होंने एक जनप्रतिनिधि होने के नाते अपने पूरे कार्यकाल में यह जानकारी भी हासिल नहीं की उनके हटा विधानसभा क्षेत्र के दो ब्लाॅकों हटा व पटेरा में कौन-कौन परियोजना अधिकारी व पर्यवेक्षक पदस्थ हैं और कितने समय तक पदस्थ रह सकते हैं और कितने साल से पदस्थ हैं, अब उन्हें यह जानकारी विधानसभा द्वारा दी जाएगी। इसके बाद विधायक क्या कदम उठाते हैं यह अभी समय पर निर्भर है।

Related posts

हीरा खनन परियोजना मझगवां का कार्य चालू रखने के लिए कलेक्टर ने दिए निर्देश

Nishpaksh

 BIRD FLU: 15 दिन के लिए चिकन शॉप बंद, कलेक्टर ने दिए नपा को निर्देश

Nishpaksh

इंदौर: सराफा बाजार स्थित गोल्डन ज्वैलरी के कारखाने से 60 लाख का माल उड़ा ले गए चोर

Nishpaksh

Leave a Comment